महाराष्ट्र के भयखला से विधायक वारिस पठान के बयान की हुई निंदा

महाराष्ट्र के भयखला से विधायक वारिस पठान के बयान की हुई निंदा

एआईएमआईएम के राष्ट्रीय प्रवक्ता व महाराष्ट्र के भयखला से विधायक वारिस पठान के बयान (15 करोड़ मुस्लिम 100 करोड़ हिंदुओं पर भारी पड़ेंगे) की कांग्रेस पार्टी महासचिव दिग्विजय सिंह व आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने निंदा की है. 

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने उनके विरूद्ध कार्रवाई करने की मांग की है. वहीं राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता तेजस्वी यादव ने भी लोगों से ऐसे जहरीले बयानों का बहिष्कार करने को बोला है.

दिग्विजय ने ट्वीट कर कहा, 'ओवैसी जी की पार्टी एआईएमआईएम के राष्ट्रीय प्रवक्ता व महाराष्ट्र के भयखला से विधायक वारिस पठान के बयान की मैं निंदा करता हूं. इसी प्रकार के बयान असदुद्दीन ओवैसी सांसद के भाई अकबरुद्दीन ओवैसी विधायक ने दिए थे. वारिस पठान के विरूद्ध कठोर कार्रवाई होनी चाहिए. कांग्रेस पार्टी सदैव कट्टरपंथी विचारधारा के विरूद्ध लड़ी है. बीजेपी व एआईएमआईएम एक दूसरे के पूरक हैं. दोनों धार्मिक भावना फैला कर नफरत पैदा करते हैं.'

इसी प्रकार के बयान असाउद्दीन ओवेसी सांसद के भाई अकबरउद्दीन ओवेसी विधायक ने दिए थे. वारिस पठान के विरूद्ध सख़्त कार्यवाही होना चाहिये. कॉंग्रेस सदैव कट्टरपंथी विचारधारा के विरूद्ध लड़ी है. बीजेपी व AIMIM एक दूसरे के पूरक हैं. दोनों धार्मिक भावना फैला कर नफ़रत पैदा करते हैं.



पठान के बयान पर राजद नेता तेजस्वी यादव ने संविधानप्रिय व न्यायप्रिय लोगों को इस तरह के जहरीले लोगों का बहिष्कार करने के लिए बोला है. तेजस्वी ने लिखा, 'हमारी सांझी विरासत व सांझी वीरगति की बदौलत हम सांझी लड़ाई लड़ रहे है. भाजपाईयों के लाख चाहने के बावजूद भी ध्रुवीकरण नहीं हो पा रहा तो कट्टरपंथी बीजेपी ने अब अपने सहयोगी कट्टरपंथी लोगों को आगे किया है. संविधानप्रिय और न्यायप्रिय लोग ऐसे जहरीले लोगों का बहिष्कार करे.'
 

5 करोड़ हैं लेकिन सौ पर भी भारी हैं: वारिस पठान

कर्नाटक के गुलबर्ग में हुई एक रैली के दौरान हिन्दू-मुसलमान का मामला उठाते हुए वारिस पठान ने भड़काऊ बयान दिया. उन्होंने कहा, 'वे कहते हैं कि हमने अपनी स्त्रियों को सामने रखा है, अभी तो केवल शेरनियां बाहर आई हैं व आप पसीना-पसीना होने लगे हैं. तब क्या होगा जब हम सभी साथ आ जाएंगे. 15 करोड़ हैं लेकिन सौ पर भी भारी हैं, ये याद रखना.' बताया जा रहा है कि उन्होंने यह बयान एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की मौजूदगी में दिया.