मेथनॉल वाले हैंड सैनिटाइजर्स क्यो खतरनाक हैं?, जाने जवाब

मेथनॉल वाले हैंड सैनिटाइजर्स क्यो खतरनाक हैं?, जाने जवाब

कोरोना वायरस (Corona virus) महामारी के आने के हैंड सैनिटाइजर्स (Hand sanitizers) का इस्तेमाल एक दम से बढ़ गया है। महामारी की आरंभ में हमारे देश में इतना हैंड सैनिटाइजर नहीं था कि लोगों को मांग को पूरा किया जा सके।

 इसके बाद देश की कई कंपनियां तरह-तरह के हैंड सैनिटाइजर बनाने लगीं व आज देश में इसकी बाढ़ सी आ गई है। वहीं हैंड सैनिटाइजर्स को लेकर WHO सहित दुनियाभर के हेल्थ एक्सपर्ट्स ने बोला है कि 60% एल्कोहल वाला हैंड सैनिटाइजर के इस्तेमाल से कोरोना वायरस को फैलने से रोका जा सकता है।

ऑनली हेल्थ डॉटकाम की समाचार के अनुसार इन दिनों मुनाफा कमाने के चक्कर में कुछ कंपनियां हैंड सैनिटाइजर्स में एल्कोहल के नाम पर ऐसी चीजें मिला रही हैं, जो खतरनाक व जानलेवा हैं। इस पर U.S. Food and Drug Administration (FDA) ने ऐसे हैंड सैनिटाइजर्स के प्रयोग के विरूद्ध चेतावनी जारी की है। इन दिनों आप भी हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करते होंगे, ऐसे में सचेत हो जाएं व इन्हें खरीदने से पहले इसके पीछे यह जरूर पढ़ लें कि इसमें किस तरह के एल्कोहल की कितनी मात्रा है।

मेथनॉल वाले हैंड सैनिटाइजर्स क्यो खतरनाक हैं?
National Institutes of Health (NIH) का बोलना है कि मेथनॉल एल्कोहल का एक ऐसा रूप है, जो बेहद जहरीला होता है। इसका प्रयोग रेसिंग गाड़ियों के ईंधन में व एंटीफ्रीज के तौर पर किया जाता है। मेथनॉल इतना खतरनाक होता है यह स्कीन पर लगाने पर स्कीन के भीतर जा सकता है व गंभीर मामलों में ये जानलेवा भी होने कि सम्भावना है। जहरीला होने के कारण आपके पेट में जाने से यह नुकसान पहुंचा सकता है। इसको सूंघना भी खतरनाक है। इससे आपको ये नुकसान हो सकते हैं



-चक्कर आना
-उल्टी आना
- सिर दर्द होना
- आंखों से धुंधला दिखाई देना
- हमेशा के लिए अंधापन
- शरीर में कंपकंपी
- कोमा में भी जा सकता है व्यक्ति
- नर्वस सिस्टम परमानेंट डैमेज होने कि सम्भावना है
- आदमी की मृत्यु हो सकती है

कौन से हैंड सैनिटाइजर्स हैं प्रयोग करें?
दुनिया स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार एथेनॉल (Ethanol) व आइसोप्रोपेनॉल (Isopropanol)- सिर्फ यही दो एल्कोहल ऐसे हैं, जो हैंड सैनिटाइजर के लिहाज से सुरक्षित है। WHO का बोलना है कि सभी तरह के एल्कोहल ज्वलनशील होते हैं, यानी इनमें तुरंत आग पकड़ती है। इसलिए हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करने वाले आदमी को सैनिटाइजर के इस्तेमाल के तुरंत बाद आग से दूर रहना चाहिए। खासकर ऐसे लोग जो धूम्रपान (Smoking) करते हैं, वो सैनिटाइजर्स के इस्तेमाल को लेकर जरूर सावधानी बरतें।

फर्जी दावों वाले सैनिटाइजर्स से रहें सावधान
FDA की रिपोर्ट में बोला गया है कि इन दिनों हैंड सैनिटाइजर को लेकर कई कंपनियां फर्जी दावे कर रही हैं। क्योंकि वो नकली प्रोडक्ट बेचकर ज्यादा मुनाफा कमाना चाहते हैं। FDA का बोलना है कि अगर कोई सैनिटाइजर ऐसा दावा करता है कि उसका प्रोडक्ट प्रयोग के बाद 24 घंटे तक सुरक्षा देगा, तो ये दावा पूरी तरह निराधार है। वैसे हैंड सैनिटाइजर्स सिर्फ तत्काल इस्तेमाल करने पर ही अच्छा पाया गया है।