घर के कार्यों के चलते इन तरीको से करे हाथ-पैरों की देखभाल

घर के कार्यों के चलते इन तरीको से करे हाथ-पैरों की देखभाल

कोरोना के कारण बार-बार हाथ धोना विवशता बन गई है. वहीं स्त्रियों को घर के कार्यों के चलते खुद की देखभाल का वक़्त नहीं मिल पा रहा है. इसलिए समय निकालिए व हाथ-पैरों की देखभाल पर ध्यान दीजिए.

रूखापन दूर करें

एक चम्मच ग्लिसरीन को गुलाब जल में मिलाकर रख लें. इस मिलावट को सोते समय हाथ-पैरों पर लगा लें. इससे हाथ-पैरों में नमी बनी रहेगी व वे कोमल बनेंगे. इसके साथ ही एक चम्मच शक्कर में नींबू का रस मिलाकर हाथ-पैरों की मालिश करें व कुछ देर बाद गुनगुने पानी से धो लें. ग्लिसरीन, गुलाब जल व नींबू के रस के मिलावट से नियमित मालिश करने से पैर मुलायम रहते हैं.

कच्चे दूध की मालिश

दूध उबालने से पहले उसे थोड़ा-सा निकालकर फ्रिज में रख लें. जब भी समय मिले इस दूध को हाथ-पैरों पर मल लें व धीरे-धीरे मालिश करें. इससे हाथ-पैरों पर जमी गंदगी दूर होती है, साथ ही स्कीन मुलायम बनती है. अगर तैलीय स्कीन की समस्या नहीं है तो चेहरे पर भी कच्चे दूध की मालिश कर सकते हैं. इस प्रक्रिया को रोज़ दुहरा सकते हैं या फिर 1-2 दिन के अंतराल में भी कर सकते हैं.

कपड़े धोने के बाद

यदि डिटर्जेंट/साबुन युक्त पानी में हाथ-पैर अधिक समय तक रहते हैं तो उन्हें नुक़सान पहुंचता है. कपड़े धोने के बाद सादे पानी से हाथ अच्छा से धोकर मलाई, मक्खन, देशी घी, नारियल का ऑयल या ग्लिसरीन आदि अच्छी तरह से हाथों पर मलें. इससे हाथों का रूखापन दूर होगा.

पैरों की मालिश

पैर रूखे-रूखे व बेजान लगते हों तो गुनगुने पानी में नारियल या जैतून का ऑयल व थोड़ा-सा नमक डालकर पैर कुछ देर उस पानी में रखें. फिर पांव बाहर निकाल कर तौलिए से हल्के हाथों से पोंछकर सुखाएं. पैर सूखने के बाद मॉइश्चराइज़र या नारियल ऑयल से धीरे-धीरे मालिश करें. गुनगुने पानी से पैरों को आराम भी मिलेगा व संक्रमण और गंदगी भी दूर होगी.