इस तरह करें संतोषी माता का व्रत, इन बातों का रखें खास ख्याल

इस तरह करें संतोषी माता का व्रत, इन बातों का रखें खास ख्याल

कहते हैं मां संतोषी का व्रत करने से मां का हाथ हमेशा अपने भक्तों के ऊपर बना रहता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, अगर कोई व्यक्ति शुक्रवार के दिन संतोषी माता की विधि-विधान से पूजा और व्रत करता है तो इसका एक विशेष महत्व होता है। जो लोग मां का स्मरण कर 16 शुक्रवार के व्रत करते हैं उनकी मनोकामनाएं पूर्ण होती है। साथ ही सभी कष्ट भी दूर होते हैं। कहा जाता है कि बिना कथा पढ़ें संतोषी माता का व्रत पूरा नहीं होता है। कथा पढ़ने के लिए क्लिक करें यहां। तो चलिए जानते हैं कि संतोषी माता का व्रत कैसे किया जाए।

इस तरह करें संतोषी माता का व्रत:


1. सुबह सूरज उगने से पहले उठें और घर की साफ-सफाई, स्नान आदि से निवृत हो जाएं।

2. घर के मंदिर में या किसी अन्य पवित्र स्थान पर संतोषी माता की मूर्ति या चित्र लगाएं।

3. यहां पर सभी पूजा सामाग्री रखें। साथ ही एक बड़े बर्तन में शुद्ध जल भरकर रखें।

4. जिस बर्तन में जल है उस पर दूसरा बर्तन रखें जिसमें गुड़ और चना हो।


5. पूरी विधि-विधान से पूजा करें और मां का स्मरण करें। संतोषी मां की आरती के लिए क्लिक करें यहां।

6. ध्यान रखिएगा कि जब आप आरती या स्तुति कर रहे हों तो घी का दीपक और कपूर जलते रहने चाहिए।

7. आरती पूरी होने के बाद लोगों में गुड़-चने का प्रसाद बांटे। खुद भी प्रसाद ग्रहण करें।

8. इसके बाद जिस बर्तन में आपने जल भरकर रखा है उसे पूरे घर में संतोषी मां का नाम लेकर छिड़कें। जो जल बच जाए उसे तुलसी के पौधे में डाल दें।


9. मां का उपवास और कथा सच्चे मन से 16 शुक्रवार जरूर करें।

इन बातों का रखें ख्याल:

1. मां का व्रत करते समय भूलकर भी किसी खट्टी चीज को न तो खाएं और न ही छुएं।

2. गुड़ा और चने का प्रसाद खुद जरूर खाएं।

3. जब आपका व्रत हो तो आपके घर में भी कोई व्यक्ति खट्टी चीज न खाए।