शिशु के जन्म के पहले वर्ष तक ऐसे करें उसकी देखभाल

शिशु के जन्म के पहले वर्ष तक ऐसे करें उसकी देखभाल
Baby Care Tips: नवजात बच्चे के माता-पिता को बच्चे की हर वस्तु का खास ध्यान रखना पड़ता और ये क्रम लगातार कई महीनों तक चलता है जैसे उसका खाना, पीना और सोना हर एक छोटी वस्तु का ख्याल माता-पिता को रखना पड़ता है नवजात बच्चे के लिए मां का दूध सबसे अधिक लाभदायक होता है लेकिन फिर भी मां को इस बात का भी ध्यान रखना पड़ता है कि बच्चे को कितनी भूख लग रही है वो कितनी देर तक दूध पीता है और बच्चा ठोस कब खाना प्रारम्भ करेगा बच्चे की फीडिंग और उसके खान-पान को लेकर कुछ ऐसे ही टिप्स है, जो हम आपको बताने जा रहे हैं-

उम्र के हिसाब से बढ़ती है बच्चे की खुराक
नवजात बच्चों का पेट बहुत ज्यादा छोटा होता है और मां को इस बात का ध्यान रखना होगा कि बच्चे को अधिक दूध न पिलाये नवजात शिशु का पेट एक मार्बल के साइज के बराबर होता है और उसे 1 और आधे चम्मच तक ही दूध पीलाना चाहिए जैसे-जैसे बच्चा बड़ा होता है वैसे ही उसका पेट बढ़ता है यदि आप अपने बच्चे को बोतल से दूध पिला रही हैं तो आपको कितना दूध उसे देना है ये नापने में सरलता होगी

बच्चे को कितनी बार खाना चाहिए खाना
छोटे बच्चों को भूख अधिक लगती है और इस बात का हर मां को ध्यान रखना चाहिए यदि आप अपने बच्चे को अपना दूध पिला रही हैं तो आपको ये बात मालूम होनी चाहिए कि मां का दूध पीने वाले बच्चों को शीघ्र - शीघ्र और अधिक भूख लगती है मां का दूध बच्चों के पेट में शीघ्र पच जाता है और इस वजह से उन्हें शीघ्र भूख लगती है इसके अतिरिक्त यदि आप बच्चे को बोतल से दूध पिला रही है तो बच्चे को उतनी शीघ्र भूख नहीं लगेगी इसलिए आपको बच्चे की भूख का खास ध्यान रखना पड़ेगा

ब्रेस्टफीड बच्चों का रखना होगा खास ध्यान
बच्चे के पैदा होने के 1 घंटे के अंदर ही बच्चे को मां का दूध देना प्रारम्भ कर दिया जाता है और उसके साथ ही 1 दिन में बच्चे को 8 से 12 बार मां का दूध पिलाना चाहिए हर मां को इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए कि बच्चे के पैदा होने से करीब 2 सप्ताह तक बच्चे को दिन में कई बार ब्रेस्टफीड कराना चाहिए

आपको इस बात का भी ध्यान रखना पड़ेगा कि आपका बच्चा 4 घंटे तक भी बिना फीडिंग के न रहे यदि आप ब्रेस्ट फीडिंग का अच्छे से ध्यान रखेंगी तो इससे आपका बच्चा अच्छे से ग्रो करेगा, साथ ही उसका वजन भी बढ़ेगा ये कुछ प्वॉइंट्स है, जो आपकी सहायता करेंगे कि आपको बच्चे को कितनी बार फीड कराना है-

-1 से 3 महीने के बच्चे को 24 घंटे के अंदर 7 से 9 बार ब्रेस्ट फीड कराना चाहिए
-3 महीने के बच्चे को 24 घंटे के अंदर 6 से 8 बार दूध पिलाना चाहिए
-6 महीने के बच्चे को एक दिन में 6 बार दूध पिलाना चाहिए

-12 महीने के बच्चे को आपको एक दिन में 4 बार दूध पिलाना चाहिए

बोतल से दूध पीने वाले बच्चे का ऐसे रखें ख्याल
ब्रेस्ट फीड वाले बच्चों से बोतल से दूध पीने वाले बच्चों को कम भूख लगती है लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि उन्हें दूध पिलाने में आप लंबे समय का अंतराल लें यहां पर बोतल से दूध पीने वाले बच्चों का एक शेड्यूल है, जिससे आपको ये जानने में सहायता मिलेगी कि बच्चे कितनी देर में दूध पिलाना होगा

नवजात बच्चे को दिन में 2 से 3 घंटे आपको दूध पिलाना चाहिए
2 महीने के बच्चे को एक दिन में 3 से 4 घंटे दूध देना चाहिए
4 से 6 महीने के बच्चे को 4 से 5 घंटे दूध पिलाना चाहिए
6 महीने से अधिक के बच्चे को दिन में 4 से 5 घंटे दूध पिलाना चाहिए
(ध्यान रहें कि पूरे दिन में घंटों की बात हो रही है, एक साथ 5 घंटे तक दूध नहीं पिलाना है )

बच्चे को बार-बार लगने वाली भूख पर दें ध्यान
आमतौर पर जब भी आपके बच्चे को भूख लगेगी तो आप उसे दूध पिलायेंगी लेकिन कुछ बच्चों को बार-बार भूख लगती है इसका भी आपको खास ध्यान रखना पड़ेगा कि बच्चा भूखा न रहे कुछ बच्चों का भूख लगने का एक तय समय होता है और वो दोपहर या शाम को दूध पीते है और फिर सो जाते है लेकिन कुछ बच्चों को बार-बार भूख लगती है, जिसे आप बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें करीब 6 महीने तक आपको बच्चे की भूख का खास ध्यान रखना पड़ेगा

नहाते समय सबसे पहले शरीर के इस अंग पर डालें पानी

नहाते समय सबसे पहले शरीर के इस अंग पर डालें पानी

रोजाना नहाने से बॉडी काफी फ्रेश महसूस करती है। नहाने से शरीर के बैक्टीरिया तो हटते ही हैं साथ ही इससे व्यक्ति रिफ्रेशिंग भी महसूस करता है। आयुर्वेद में तो नहाने का बहुत महत्व बताया गया है। नहाने से शरीर की ऊर्जा बढ़ती है और आलस दूर होता है। कई बार नहाने के बाद भी आप फ्रेश महसूस नहीं करते हैं और आलस आता है। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसा तरीका बताने जा रहे हैं जिसे अपनाने से आप अच्छा महसूस करेंगे।

शरीर के इस हिस्से में डालें सबसे पहले पानी
अधिकतर लोग नहाते समय सबसे पहले सिर पर पानी डालते हैं। ऐसा करने से दिमाग की नसों को नुकसान पहुंच सकता है। इसलिए नहाते समय सबसे पहले पैरों पर पानी डालें। ऐसा करने से आप पानी के तापमान को भांप लेते हैं। इसके अलावा अगर आप स्ट्रेस से जूझ रहे हैं तो सिर झुकाकर पहले पीछे गर्दन पर पानी डालें। इसके बाद पूरे शरीर पर पानी डालें। ऐसा करने से स्ट्रेस और दर्द दूर होता है।

दिन के इस समय ना नहाएं
अधिकतर लोग दिन में किसी भी समय नहा लेते हैं। अगर आप भी ऐसा ही कुछ करे हैं तो आपको बता दें कि खाना खाने या नाश्ता करने के बाद कभी नहीं नहाना चाहिए। आयुर्वेद के मुताबिक, शरीर की गर्मी या पाचन अग्नि खाना पचाती है। नहा लेने से ये प्रभावित होती है और खाना नहीं पच पाता। 


1,500 रुपये से कम कीमत में आते हैं ये शानदार नेकबैंड ईयरफोन       600mAh की पावरफुल बैटरी के साथ भारत में लॉन्च हुआ ZOOOK का नया वायरलेस माउस       महंगी हुईं आपकी चहेती Mahindra SUVs, जानिए कीमत       Volkswagen T-Roc की बुकिंग शुरू, जानिये कब से मिलेगी डिलीवरी       सिंगल चार्ज में 450 किलोमीटर दौड़ेगी Renault Megane-e SUV, जानें दमदार फीचर्स       Mahindra के बाद अब महंगी होंगी Tata की कारें, जानें नई कीमतें       Honda H’ness CB350 के दाम में फिर हुआ इजाफा, जानें कीमत       Husqvarna Vitpilen 701 स्पेशल एडिशन मॉडल से उठा पर्दा       Covid-19 महामारी के दौरान इमरजेंसी में अगर कार से कर रहे हैं लंबा सफर       सोने के दाम में तेजी, चांदी की कीमत काफी बढ़ी, जानें       IPL में मिले पैसों से अपने पिता का इलाज करवा रहा है ये युवा गेंदबाज, कहा...       IPL 2021 में हर टीम की तरफ से किस गेंदबाज ने लिए सबसे ज्यादा विकेट       इंग्लैंड दौरे और WTC Finals के लिए भारतीय टीम का ऐलान       CSK के इस गेंदबाज की IPL 2021 में जमकर हुई धुनाई       IPL बीच में हुआ स्थगित, अब किस टीम के खिलाफ और कहां मैच खेलेगी टीम इंडिया       Rishabh Pant की गर्लफ्रेंड Isha Negi ने इस खास अंदाज में कही दिल की बात       IPL: टीम के खिलाड़ियों के लिए दिया ये बड़ा 'बलिदान', सोशल मीडिया पर छा गए धोनी       भारतीय क्रिकेटरों को केवल कोविशील्ड वैक्सीन लेने की सलाह       आज हो सकता है भारतीय टेस्ट टीम का ऐलान       इस खिलाड़ी की वाइफ ने दी खुशखबरी, घर में आया ये नया मेहमान