शतावरी एंटीऑक्सिडेंट तत्‍व से भरपूर, जाने इसके फायदे

शतावरी एंटीऑक्सिडेंट तत्‍व से भरपूर, जाने इसके फायदे

शतावरी (Shatavari) हिमालयी क्षेत्रों में पाई जाने वाली औषधीय जड़ी-बूटी है। हिंदुस्तान में शतावरी वसंत ऋतु की सब्जी के तौर पर भी जानी जाती है।

 यह बेहद लो कैलोरी वाला आहार है। एक से दो मीटर लंबी शतावरी पोषक तत्वों से भरपूर होती है। इसके इस्‍तेमाल से कई शारीरिक फायदे होते हैं। यह तेजी से वजन घटाने (Weight Loss) में भी मददगार है। साथ ही यह स्किन (Skin) में भी निखार लाती है व आयु को चेहरे पर हावी नहीं होने देती। आइए जानते हैं शतावरी के फायदों के बारे में।

शतावरी से होते हैं ये फायदे
शतावरी उन लोगों के लिए भी रामबाण साबि‍त होती है, जो अपने बढ़ते वजन से परेशान हैं। इसमें घुलनशील व अघुलनशील फाइबर होते हैं, जो वजन को कम करने में मददगार हैं।

शतावरी एंटीऑक्सिडेंट तत्‍व से भरपूर होती हैं, जो दि‍ल की बीमारियों से बचाए रखने में लाभकारी है।



इसके इस्‍तेमाल से स्किन चमकदार बनती है। यह झुर्रियों को दूर करती है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट ग्लूटाथियोन होता है जो मुंहासे से भी बचाव रखता है।

शतावरी माइग्रेन से होने वाले दर्द से भी छुटकारा दिलाने में अहम किरदार निभाती है।

जिन लोगों को नींद नहीं आती उनके लिए लाभकारी होती है। यह तनाव को दूर करती है व अनिंद्रा से मुक्ति दिलाती है।

शतावरी में भरपूर मात्रा में फोलेट होता है। ऐसे में इसके इस्‍तेमाल से बच्‍चे में रीढ़ की हड्डी संबंधी समस्‍या नहीं होती व वह मानसिक समस्‍याओं से भी बचा रहता है।

कुछ सावधानियां हैं जरूरी
शतावरी वैसे तो औषधीय गुणों से भरपूर होती है, मगर यह कुछ लोगों को नुक्‍सान भी पहुंचा सकती है। इसके साइड इफेक्‍ट भी हो सकते हैं। इसलिए बहुत एहतियात से इसका सेवन करना चाहिए।
इसे स्किन पर सीधे लगा लेने से एलर्जी की समस्‍या हो सकती है।
जिन लोगों को प्‍याज से एलर्जी है, उन्‍हें इसके इस्‍तेमाल से एलर्जी हो सकती है।