हिंदू लड़की के चर्चित तथाकथित शादी मुद्दे में लिया गया यह बड़ा निर्णय

हिंदू लड़की के चर्चित तथाकथित शादी मुद्दे में लिया गया यह बड़ा निर्णय

 पाकिस्तान के सिंध प्रांत के जैकोबाबाद की एक न्यायालय ने हिंदू लड़की के चर्चित तथाकथित शादी मुद्दे में बेहद कठोर सुरक्षा के बीच मंगलवार को निर्णय देते हुए बोला कि लड़की नाबालिग है

 व इस कारण वह विवाह के लिए कानूनी रूप से योग्य नहीं है। न्यायालय के इस निर्णय के बाद निकाह अमान्य हो गया है। किन्तु, लड़की को उसके माता-पिता के हवाले नहीं किया गया है, उसे एक बाल संरक्षण गृह पहुंचा दिया गया है।

पाकिस्तानी अखबार में इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए बोला गया है कि इसके साथ ही न्यायालय ने लड़की से शादी करने वाले अली रजा सोलंगी सहित उन सात लोगों पर पुलिस से चौबीस घंटे में मुद्दा दर्ज करने के लिए बोला जिन्होंने इस शादी को अंजाम दिलाने में अपनी किरदार निभाई थी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, जैकोबाबाद पुलिस ने बुधवार को इन सातों के खिलाफ बाल शादी कानून के तहत केस दर्ज कर लिया। इनमें सोलंगी, कथित निकाह को कराने वाला, दरगाह अमरोट शरीफ का प्रबंधक सैयद सिराज अहमद शाह भी शामिल हैं।

'डॉन' की रिपोर्ट के अनुसार, जैकोबाबाद के अलावा सत्र न्यायाधीश अधीन अली कंसारो ने मंगलवार को अपने आदेश में बोला कि लड़की नाबालिग है। इसके बाद उसका शादी रद्द हो गया। उसके परिवार की यही मांग थी कि शादी को निरस्त किया जाए।