जॉर्डन के कृषि फार्म में आग लगने से आठ बच्चों समेत इतने पाकिस्तानियों की हो गई मृत्यु, तीन लोग गंभीर रूप से झुलसे

जॉर्डन के कृषि फार्म में आग लगने से आठ बच्चों समेत इतने पाकिस्तानियों की हो गई मृत्यु, तीन लोग गंभीर रूप से झुलसे

हाल ही में जॉर्डन के एक कृषि फार्म में आग लगने से आठ बच्चों समेत 13 पाकिस्तानियों की मृत्यु हो गई। इस हादसे में तीन लोग गंभीर रूप से झुलस गए। अम्मान से लगभग 50 किलोमीटर दक्षिण पश्चिम में जॉर्डन के शुना शहर में आग लगने से यह एक्सीडेंट हुआ। यह घटना जॉर्डन वैली में रविवार रात उस समय हुई, जब ये लोग अस्थायी रूप से बने घर में सो रहे थे। आग शॉर्ट सर्किट के कारण लगने की संभावना जताई जा रही है।

हजारों की संख्या में विदेशी मजदूर:सूत्रों से मिली जानकरी के अनुसार फलों व सब्जियों की उपज वाले जॉर्डन वैली इलाके में बड़ी संख्या में व्यक्तिगत कृषि फार्म हैं। यहां हजारों की संख्या में विदेशी मेहनतकश भी कार्य करते हैं। उन्हें आमतौर पर टीन शेड से बने घरों में रखा जाता है। सीरिया से सटे जॉर्डन में बड़ी संख्या में सीरियाई शरणार्थी भी रहते हैं। उनके शिविरों में भी बिजली की गड़बड़ी व गैस स्टोव के कारण आग लगने की कई घटनाएं हो चुकी हैं।

पाकिस्‍तान दूतावास ने दी प्रतिक्रिया:वहीं यदि हम बात करें सूत्रों कि तो अम्मान में पाकिस्तानी दूतावास के ऑफिसर ने घटना की पुष्टि की। उन्‍होंने बोला कि हां, यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण घटना है जो अम्मान के करीब हुई है। यह दुख की बात है कि 13 पाकिस्तानी नागरिक जिनमें सात बच्चे व चार महिलाएं व जॉर्डन में रहने वाले दो पुरुष शामिल हैं, आग की चपेट में आ गए हैं। यह आग दो दिसंबर को रात लगभग 2 बजे लगी थी। आग का कारण शॉर्ट सर्किट बताया गया है। पीड़ित सिंध प्रांत के दादू जिले के एक जोया परिवार के थे। परिवार के मुखिया अली शेर जोया घटना में बच गए हैं। यह परिवार 1970 के दशक में पाक से जॉर्डन चला गया था व कृषि और खेती के पेशे से जुड़ा था। पाक दूतावास के प्रवक्ता ने बताया कि वे दूतावास जॉर्डन में रहने वाले मृतक के परिवार व संबंधियों के सम्पर्क में हैं।