सीजेपी खोसा का बयान, समय के साथ पुरुष व महिला के बीच के फासले खत्म

सीजेपी खोसा का बयान, समय के साथ पुरुष व महिला के बीच के फासले खत्म

पाक के प्रधान न्यायाधीश (सीजेपी) असिफ सईद खोसा ने बोला कि उच्चतम न्यायालय में जल्द ही महिला न्यायाधीशों की नियुक्ति की जाएगी. इसके साथ ही, उन्होंने बोला कि न्याय का कोई जेंडर नहीं होता. यह जानकारी मीडिया रिपोर्ट के हवाले से मिली है.

सीजेपी खोसा का बयान

मीडिया रिपोर्ट में सीजेपी खोसा के बयान का हवाला देते हुए बोला गया, 'मैंने एक न्यायाधीश आयशा मलिक का नाम सुना, जिन्हें श्रीमती आयशा मलिक के रूप में पहचाना जाता है. मुझे लगा कि क्या न्याय की भी पत्नियां होती हैं. नहीं, वह एक सम्माननीय न्यायाधीश हैं व अकेले ही बहुत ज्यादा हैं.'

समय के साथ पुरुष व महिला के बीच के फासले खत्म

प्रधान न्यायाधीश ने बोला कि समय के साथ पुरुष व महिला के बीच के फासले समाप्त हो जाएंगे. शीर्ष न्यायालय स्त्रियों को कोर्ट प्रणाली से जोड़ने की दिशा में कार्य कर रही है. उन्होंने आगे बोला कि उच्चतम न्यायालय स्त्रियों को सुरक्षा प्रदान करने की दिशा में प्रयासरत है. पुरुष प्रधान क्षेत्रों में स्त्रियों के कार्य करने को लेकर उन्होंने सराहना की.