कोरोना वायरस को लेकर राष्ट्रपति शी चिनफिंग बुरी तरह से हुए भयभीत

कोरोना वायरस को लेकर राष्ट्रपति शी चिनफिंग बुरी तरह से हुए भयभीत

हर दिन अपनी गति में तेजी पकड़ता कोरोना वायरस आज इतना बढ़ चुका है कि लगातार कई लोगों की मृत्यु हो चुकी है। जंहा चाइना में मृत्यु का तांडव मचाने वाले कोरोना वायरस को लेकर राष्ट्रपति शी चिनफिंग बुरी तरह भय गए हैं।

 बीते रविवार यानी 23 फरवरी 2020 को पहली बार उन्होंने इस महामारी पर खुलकर बात की। उन्होंने इसे देश की अब तक की सबसे बड़ी हेल्थ इमरजेंसी बताया। शी ने स्वीकार किया कि महामारी का अर्थव्यवस्था व समाज पर जरूरी रूप से असर पड़ेगा। हालांकि, उन्‍होंने यह भी बोला कि यह असर अल्पकालिक होगा व इसको जल्द ही नियंत्रित कर लिया जाएगा।

तेजी से फैल रही महामारी: वहीं यह भी बोला जा रहा है कि बीते रविवार यानी 23 फरवरी 2020 को वायरस की रोकथाम व नियंत्रण को लेकर आयोजित एक मीटिंग में चिनफिंग ने बोला कि महामारी बहुत तेजी से फैल रही है। वहीं बड़ी संख्या में संक्रमण के मुद्दे सामने आ रहे हैं। इसे रोकना व नियंत्रित करना बहुत मुश्किल है। शी के हवाले से सरकारी प्रसारणकर्ता सीसीटीवी ने कहा, यह हमारे लिए ना केवल संकट का समय है, बल्कि यह हमारे लिए इम्तिहान की घड़ी भी है। महामारी चाइना के अब तक के इतिहास की सबसे बड़ी हेल्थ इमरजेंसी है। '

चीन में महिला चिकित्सक की मौत: जंहा इस बात का भी पता चला है कि कोरोना वायरस से रविवार को चाइना में एक महिला चिकित्सक की मृत्यु हो गई। गैस्ट्रोएंटरोलॉजी फिजिशियन शिया सिसी को 19 जनवरी को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वहीं हालत में सुधार नहीं होने पर उन्हें सात फरवरी को वुहान यूनिवर्सिटी के अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया था। रविवार को उनकी मृत्यु हो गई। इस तरह महामारी से लड़ते हुए अब तक 10 स्वास्थ्य कर्मचारियों की मृत्यु हो चुकी है।