वर्जीनिया में एलजी पद की दौड़ में शामिल पुनीत अहलूवालिया के पक्ष में उतरे कपिल देव

वर्जीनिया में एलजी पद की दौड़ में शामिल पुनीत अहलूवालिया के पक्ष में उतरे कपिल देव

रिपब्लिकन पार्टी की तरफ से वर्जीनिया के लेफ्टिनेंट गवर्नर पद की दौड़ में शामिल पुनीत अहलूवालिया के समर्थन में भारतीय क्रिकेट के दिग्गज कपिल देव उतर आए हैं। हालांकि अभी तक पार्टी ने उनके नाम का एलान नहीं किया है, लेकिन विशेषज्ञ आठ मई को होने वाले पार्टी के सम्मेलन में उनके नाम पर मुहर लगना तय मान रहे हैं।

कपिल ने फेसबुक पर पोस्ट किए गए वीडियो में अहलूवालिया को शुभकामना दी है। वीडियो में दिग्गज क्रिकेटर ने कहा, 'मुझे उम्मीद है कि मैं आकर आपकी मदद कर सकता हूं।' जवाब में 55 वर्षीय अहलूवालिया ने कहा, 'अब तक के सबसे महान क्रिकेट खिलाड़ियों में से एक मेरे दोस्त कपिल देव का शुक्रिया।' सफल व्यवसायी अहलूवालिया यदि इस पद के लिए निर्वाचित होते हैं तो वे वर्जीनिया प्रांत के उच्च पद पर पहुंचने वाले पहले भारतीय होंगे। दिल्ली में जन्में अहलूवालिया 1990 में अमेरिका चले गए थे। उनकी पत्नी नादिया अफगानिस्तान मूल की है। वर्जीनिया में कई स्थानीय क्रिकेट क्लब भी हैं। अमेरिका के प्रांतों में भारतीय मूल के लोगों की बात करें तो वर्ष 2010 में यह सातवें नंबर था। यूनिवर्सिटी ऑफ वर्जीनिया के अनुमान के मुताबिक वर्ष 2019 में प्रांत में पांच लाख से अधिक एशियाई मूल के अमेरिकी थे।


भारत से लौटने वाले अपने नागरिकों से रोक हटा लेगा ऑस्ट्रेलिया

भारत से लौटने वाले अपने नागरिकों से रोक हटा लेगा ऑस्ट्रेलिया

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मारिसन ने कहा कि अगले शनिवार से ऑस्ट्रेलिया कोविड से प्रभावित भारत से लौटने वाले अपने नागरिकों से प्रतिबंध हटा लेगा। उसी दिन स्वदेश वापसी वाली पहली फ्लाइट ऑस्ट्रेलियाई शहर डारविन में लैंड करेगी।

ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने इतिहास में पहली बार भारत में 14 दिन या उससे अधिक रहकर लौटे अपने नागरिकों पर अस्थाई प्रतिबंध लगा दिया था। ताकि वह ऑस्ट्रेलिया में लैंड न कर सकें। लेकिन अब यह प्रतिबंध अगले शनिवार से हटा लिया जाएगा।

ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने इस प्रतिबंध का पालन नहीं करने पर पांच साल की जेल या 66 हजार ऑस्ट्रेलियाई डॉलर (50,899 अमेरिकी डॉलर) का जुर्माना लगाने का निर्णय लिया था। सरकार के इस फैसले से ऑस्ट्रेलियाई सांसदों, डॉक्टरों, व्यापारियों और सिविल सोसाइटी के लोगों ने सख्त एतराज जताया था। उन्होंने भारत में ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को छोड़ने और वापसी पर जुर्माना और जेल की धमकी देने का विरोध किया था।


सरकार का यह आदेश संभवत: 15 मई को खत्म हो रहा है। शुक्रवार को राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक के बाद मोरिसन ने कहा कि इस तारीख को और आगे बढ़ाने की कोई जरूरत नहीं है। लिहाजा, अब ऑस्ट्रेलिया 15 से 31 मई के बीच भारत से अपने नागरिकों को वापस लाने के लिए तीन उड़ानें भेजेगा। पहली फ्लाइट 15 मई को डारविन पहुंचेगी। भारत से सीधे ऑस्ट्रेलिया आने वाली वाणिज्यिक उड़ानों पर अभी भी प्रतिबंध है। मोरिसन ने कहा कि फिलहाल उन्हीं ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को वापस लाया जाएगा जो भारत में उच्चायोग और काउंसलर आफिस में अपना पंजीकरण करा चुके हैं।


जोड़ों के दर्द से छुटकारा दिलाएंगे ये रामबाण उपाय       पेट में अल्सर की समस्या को दूर करता है तांबे के बर्तन में रखा पानी       मासिक धर्म के दर्द को कम करने के लिए जरूर अपनाएं ये तरीके       बच्चों को स्कूल के लिए तैयार करते समय कभी भूलकर भी ना करें ये गलतियां       सावधान बिना मोज़े जूते पहनने से हो सकते है ये नुकसान       अनिमिया से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद होता है कटहल का सेवन       डायबिटीज के खतरे को बढ़ाता है ज्यादा नमक का सेवन       क्या आप जानते है "किस" करने से भी होती है ये बीमारियाँ       गर्मियों में शरीर को हाड्रेट रखने के साथ ही ताजगी प्रदान करता है खरबूजा       मलेरिया के बुखार को उतारने के कुछ आसान उपाय       1,500 रुपये से कम कीमत में आते हैं ये शानदार नेकबैंड ईयरफोन       600mAh की पावरफुल बैटरी के साथ भारत में लॉन्च हुआ ZOOOK का नया वायरलेस माउस       महंगी हुईं आपकी चहेती Mahindra SUVs, जानिए कीमत       Volkswagen T-Roc की बुकिंग शुरू, जानिये कब से मिलेगी डिलीवरी       सिंगल चार्ज में 450 किलोमीटर दौड़ेगी Renault Megane-e SUV, जानें दमदार फीचर्स       Mahindra के बाद अब महंगी होंगी Tata की कारें, जानें नई कीमतें       Honda H’ness CB350 के दाम में फिर हुआ इजाफा, जानें कीमत       Husqvarna Vitpilen 701 स्पेशल एडिशन मॉडल से उठा पर्दा       Covid-19 महामारी के दौरान इमरजेंसी में अगर कार से कर रहे हैं लंबा सफर       सोने के दाम में तेजी, चांदी की कीमत काफी बढ़ी, जानें