ब्रिटेन में ‘जस्टिस फॉर महक कुमारी’ अभियान हुआ प्रारम्भ

ब्रिटेन में ‘जस्टिस फॉर महक कुमारी’ अभियान हुआ प्रारम्भ

ब्रिटेन में मानवाधिकार कार्यकर्ताओं व भारतीय प्रवासियों ने ‘जस्टिस फॉर महक कुमारी’ अभियान चलाया है. इसके तहत पाक में अल्पसंख्यकों पर होने वाले अत्याचारों के विरूद्ध पाकिस्तानी दूतावास के बाहर विरोध प्रदर्शन हुए. हिंदू लड़की महक का पाक में किडनैपिंग कर जबरन धर्म बदलाव कर दिया गया था.


प्रदर्शनकारियों ने बोला कि पाक में अल्पसंख्यक सुरक्षित नहीं हैं.

यहां पर अल्पसंख्यक समुदाय पर अत्याचार हो रहे हैं. लड़कियों को अगवा कर जबरन धर्म बदलाव कराकर उन्हें इस्लाम कबूलने को बोला जा रहा है. इसके लिए उन्हें विवश किया जाता है व उनकी विवाह किसी मुस्लिम से कर दी जाती है.

पाकिस्तान में मानवाधिकारों को आए दिन ताक पर रख ऐसी घटनाएं होती हैं. लोगों ने बोला कि पाक दूतावास अल्पसंख्यकों के विरूद्ध हो रही बर्बरता का जवाब दे. इस दौरान शर्म करो पाक के नारे लगाए गए व मांग रखी कि पाकिस्तानी पीएम इमरान खान देश में बाल उत्पीड़न के इस सबसे बड़े रूप के विरूद्ध कार्रवाई करें.

गिलगित-बाल्टिस्तान में मानव अधिकारों को कुचला

कार्यकर्ताओं का बोलना है कि पाकिस्तान ने कश्मीर को लेकर झूठ बोलने के लिए लगभग हर अंतर्राष्ट्रीय मंच का उपयोग किया है. इसके साथ ही कश्मीरी मानवाधिकारों के रक्षक होने के कई दावे किए हैं. खुद अपने कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के गिलगित-बाल्टिस्तान में वह लगातार मानवाधिकारों का उल्लंघन करता रहा है.