पाक को आज भी इस बात का भय,  "हिंदुस्तान दोबारा से इस तरह का न कर दे हमला"

 पाक को आज भी इस बात का भय,  "हिंदुस्तान दोबारा से इस तरह का न कर दे हमला"

बालाकोट में भारतीय एयर हड़ताल को लेकर पाक अब भी खौफ में जी रहा है. पाक को आज भी इस बात का भय है कि कहीं हिंदुस्तान दोबारा से इस तरह का हमला न कर दे. बताते चलें कि पुलवामा (Pulwama) में सीआरपीएफ (CRPF) के जवानों पर हुए आतंकवादी हमलों में 40 जवान शहीद हो गए थे. 

इसके बाद
भारत ने एयर हड़ताल की थी. इस हमले में बालाकोट के आतंकवादी कैंप में उपस्थित सैकड़ों आतंकवादी मारे गए थे. यह हमला जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर के विरूद्ध की गई कार्रवाई थी.

ऐसे में मसूद व उसके कैंप को बचाने के लिए पाक ने चाइना से लिए एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम को आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के मुख्यालय बहावलपुर के पास तैनात कर दिया है. सूत्रों की मानें तो बालाकोट एयर हड़ताल के बाद पाक ने चाइना से चार मिसाइल डिफेंस सिस्टम की मांग की थी. एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम को बहावलपुल में इसलिए तैनात किया है, क्योंकि यहां पर जैश-ए मोहम्मद का मुख्यालय है.

चार वर्ष पहले ही चाइना से लिया मिसाइल सिस्टम

पाकिस्तान के भय का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वर्ष 2015 में चाइना से उससे नौ मिसाइल सिस्टम LY-80 का करार हुआ था. बालाकोट से पहले पांच मिसाइल सिस्टम चाइना से पाक को मिल चुके थे. बाकी 4 मिसाइल अगले 4 वर्ष में आनी थीं. इससे डरे पाक ने एक साथ 4 सिस्टम एक वर्ष में ही ले लिए.

सूत्रों की मानें तो चाइना से मिले 5 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम को पाकिस्तान ने मर्री, गुंजरावाला, अरिफवांला, रहींग्यार खान व सकर के एयरबेस व सैन्य ठिकानों में तैनात कर रखा है. वहीं बालाकोट एयर हड़ताल के बाद एक साथ मंगवाए गए चार मिसाइल सिस्टम को बहावलपुर, पानोअकिल, मुलतान व मलिर एयर बेस व डिफ़ेंस इस्टेब्लिशमेंट में लगाया गया है.

बहावलपुर में क्यों तैनात किया मिसाइल सिस्टम

पाकिस्तान को इस बात का भय है कि हिंदुस्तान जैश-ए-मोहम्मद के मुख्यालय बहावलपुर पर एयर हड़ताल कर सकता है. पाक इस जगह को सुरक्षित रखना चाहता है. ऐसे में वह भारतीय वायुसेना के वार से बचने के लिए एयर डिफेंस सिस्टम का सहारा ले रहा है. उसने चाइना से मंगाए एयर डिफेंस सिस्टम तैनात किए हैं.