समय से पहले प्रसव होने को गंभीरता से लिया जाना चाहिए, जानिए क्यों

समय से पहले प्रसव होने को गंभीरता से लिया जाना चाहिए, जानिए क्यों

र्भकालीन दिनों में मिलने वाले पोषण से वंचित रह गए। नेचर रिसर्च नामक जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के लेखकों ने बोला है कि समय से पहले प्रसव होने को गंभीरता से लिया जाना चाहिए।

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया-लॉस एंजिलिस के इंस्टीट्यूट ऑफ द इंवायरमेंटल एंड सस्टेनेबलिटी की एलन र्बेका ने कहा, ‘बच्चों के समय से पूर्व पैदा होने पर इस बात की आसार ज्यादा रहती है कि उनका विकास अवरुद्ध हो जाए व इसका असर उनकी युवावस्था पर भी पड़ता है। लेकिन इस विषय में मजबूत दावों के लिए अभी व अध्ययन की आवश्यकता है। 'उन्होंने कहा, ‘गर्म मौसम से ऑक्सीटोसिन के स्तर में वृद्धि हो जाती है। यह एक ऐसा हार्मोन है जो प्रसव के साथ-साथ डिलीवरी को भी नियंत्रित करता है व गर्मी के कारण दिल संबंधी तनाव भी बढ़ता है। ' शोधकर्ताओं ने बोला कि इन दोनों के बीच का संबंध समय से पूर्व प्रसव के लिए जिम्मेदार होने कि सम्भावना है।