प्रेग्नेंसी में फिटनेस का ख्याल रखना है तो स्वीमिंग करें, जानिए जरूरी सावधानियां

प्रेग्नेंसी में फिटनेस का ख्याल रखना है तो स्वीमिंग करें, जानिए जरूरी सावधानियां

तंदुरुस्त रहने के लिए हर उम्र में एक्सरसाइज़ करना बेहद जरूरी है। एक्सरसाइज करने से ना सिर्फ सेहत अच्छी रहती है बल्कि मन भी ठीक रहता है।  महिलाओं के लिए एक्सरसाइज करना बेहद जरूरी है, खासकर गर्भावस्था के दौरान एक्सरसाइज ना सिर्फ मां के लिए जरूरी है बल्कि बच्चे के लिए भी जरूरी है। कुछ महिलाएं स्वीमिंग करना बेहद पसंद करती हैं, लेकिन प्रेग्नेंसी में तैरने से डरती हैं। सवाल ये उठता है क्या प्रेग्नेंसी के दौरान महिला के लिए तैरना उचित है?  आइए जानते  कि प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के लिए स्वीमिंग करना शारीरिक और मानसिक सेहत पर कैसे असर डाल सकता है।

गर्भावस्था के दौरान स्वीमिंग करने से सेहत पर असर:

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं की पीठ, पेट और घुटनों पर खास असर पड़ता है। ऐसे में तैरना एक हल्का और असरदार व्यायाम है, जो बच्चे और मां दोनों की सेहत के लिए अच्छा है।
स्वीमिंग फेफड़ों और दिल के स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है। स्वीमिंग फेफड़ों और दिल की एक्सरसाइज है, जो बच्चे को जन्म देने की प्रक्रिया में सहायक होती है।
स्वीमिंग प्रेग्नेंसी में वजन और शुगर को कंट्रोल करती है। प्रेग्नेंसी में वजन बढ़ना आम समस्या है। अगर प्रेग्नेंट लेडी स्वीमिंग करती है तो उसका वजन कंट्रोल रहता है, साथ ही महिला को प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली जेस्टेशनल डायबिटीज का खतरा भी कम रहता है।
तैरना एक हल्की और असरदार एक्सरसाइज है, जो आपके वज़न को कंट्रोल करती है।
स्वीमिंग गर्मियों में आपको कूल रखती है, साथ ही मांसपेशियों में दर्द और सूजन को कम करती है।  शरीर के पानी में डूबने से अंगों में सूजन कम हो जाती है। सूजन कम होने की वजह से आपकी बॉडी में दर्द की शिकायत नहीं रहती। स्वीमिंग गर्भावस्था के दौरान आपके ब्लड सर्कुलेशन को ठीक रखती है।
तैरते समय आप कैसे सुरक्षित रह सकती हैं?


गर्भावस्था के दौरान तैराकी करना सुरक्षित होता है, लेकिन तैरते समय सुरक्षा नियमों का पालन करना जरूरी है।
खुले पानी या पूल में तैरते समय जागरूक रहें। यदि आप समुद्र, झील या नदी में तैर रहे हैं, तो पानी की धाराओं पर ध्यान दें। संभव हो तो परिवार के किसी सदस्य या मित्र के साथ तैरें।
पूल में मौजूद क्लोरीन महिला के स्वास्थ्य के लिए किसी भी तरह से खतरनाक नहीं है, ये बात कई अध्ययनों में सामने आ चुकी है।
प्रेग्नेंट महिलाओं को चाहिए कि वो ज्यादा तेजी से नहीं तैरें, वरना उन्हें सांस लेने में परेशानी हो सकती है।
स्किनकेयर हमेशा आवश्यक होती है, स्किन की देखभाल के लिए चेहरे पर सनस्क्रीन जरूर लगाएं।
गर्भावस्था के दौरान महिलाएं अधिक धूप के प्रति संवेदनशील हो सकती हैं।
यदि आप प्रेग्नेंसी से पहले तैरती नहीं हैं तो प्रेग्नेंसी के दौरान भी शुरुआत कर सकती हैं। बस धीमी शुरुआत करें और सुरक्षित रहें। यदि आप तैराकी से अपरिचित हैं, तो आराम करने या व्यायाम करने के लिए पूल के उथले सिरे का उपयोग करें।


वज़न कंट्रोल रखना चाहते हैं तो इस तरह बनाएं अपना खाना फैट फ्री

वज़न कंट्रोल रखना चाहते हैं तो इस तरह बनाएं अपना खाना फैट फ्री

मोटापा तेजी से पनपने वाली ऐसी बीमारी है जिससे लोग बेहद परेशान है। भारत में 135 मिलियन से ज्यादा लोग मोटापे से पीड़ित हैं। यह मोटापा क्रोनिक बीमारियों जैसे डायबिटीज़, हाई ब्लड प्रेशर, हृदय रोग के अलावा अन्य रोगों का सबसे बड़ा कारण है। मोटापा हमारे खान-पान और तनाव की वजह से बढ़ता है। जी हां, तनाव भी आपको मोटा बना सकता है। हमारा खान-पान ऐसा हो गया है कि हम अपने खाने में ऑयल का बेहद इस्तेमाल करते हैं जिसकी वजह से बॉडी में वसा की मात्रा बढ़ती जाती है। आप जानते हैं कि हमारा खाना पकाने के तरीकों की वजह से भी हम खाने में तेल का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। अत्याधिक तेल आपके खाने का स्वाद तो बढ़ा सकता है, लेकिन आपकी सेहत बिगाड़ सकता है। तेल के अधिक इस्तेमाल से आपके आहार में अत्याधिक कैलोरी शामिल हो जाती है, जिससे कई स्वास्थ्य समस्याएं भी पैदा हो सकती है। खाना पकाने की कुछ विधियां ऐसी हैं जिसमें कम तेल का इस्तेमाल करके हम अपना वज़न कंट्रोल रख सकते हैं। आइए जानते हैं कि खाना पकाने के तरीके कैसे हमारा वज़न कंट्रोल रखते हैं।


रोस्टेट फूड का करें सेवन:

खाने में तेल की मात्रा को कम करना चाहते हैं तो आप पुराने तरीके से खाना पकाने के बजाए सब्जी, मीट और बेक को रोस्टेट करके पकाएं। रोस्टेट फूड में वसा की मात्रा कम रहेगी और आपका वज़न भी कंट्रोल रहेगा।

एयर फ्रायर में पकाएं और वज़न को कंट्रोल करें:

खाने में फैट की मात्रा कम होती है तो वजन कंट्रोल रहता है। फैट फ्री खाना ना सिर्फ हेल्दी होता बल्कि उसमें कैलोरी भी कम होती है। एयर फ्रायर में खाना पकाकर खाएंगे तो उसमें वसा कम रहेगी और आपका वजन भी कंट्रोल रहेगा।


कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता:

कम वसा का खाना खाने से लिपिड प्रोफाइल नियंत्रित रहता है, जिससे शरीर में गुड कोलेस्ट्रोल सही रहता है और बैड कोलेस्ट्रोल कम होता है।

तंदूर में पकाएं:

ओवन या कड़ाही में डीप फ्राइ करने से एक्राइलामाइड जैसे खतरनाक रसायन बनते हैं जो कार्बोहाइड्राइड को खराब बना देते हैं। स्टडी के मुताबिक एक्राइलामाइड में कैंसर पैदा करने वाली शक्ति होती है। अगर आप डीप फ्राई के मुकाबले तंदूर पर पका कर खाते हैं तो उसमें वसा कम रहेगी। इसके अलावा एलडिहाइड, हेट्रोसाइक्लिक एमिन और पोलीसाइक्लिक एरोमैटिक जैसे खतरनाक रसायन जो डिप फ्राई के कारण बनते हैं, वो तंदूर में नहीं बनते।


ग्रिल या भांप में पकाएं खाना:

अपने खाने को भूनने के बजाय बेक, ग्रिल या भाप में पकाएं। इस तरह पकाएं गए फूड में वसा आपकी बॉडी में कम रहेगी और वजन भी कंट्रोल रहेगा। तले हुए या प्रोसेस्ड स्नैक्स की बजाय बेक किए गए, भुने या स्टीम्ड स्नैक्स को विकल्प के तौर पर चुने।

इन तेलों का करें पकाने में सेवन:

आप ये कोशिश करें कि खाने में सूरजमुखी का तेल, चावल का तेल, अलसी का तेल, तिल का तेल, मूंगफली का तेल, सरसों का तेल, नारियल का तेल इस्तेमाल करें। ये सभी तेल आप कम मात्रा में भी खाने में इस्तेमाल करेंगे तो आपको पर्याप्त पोष्क तत्व मिलेंगे साथ ही इसमें वसा भी कम होगी। ये तेल फैटी एसिड से भरपूर होते हैं जो आपके स्वास्थ्य को कई तरीकों से बेहतर बनाते हैं।


आज है अप्रैल माह का पहला प्रदोष व्रत, जानें शुभ मुहूर्त और महत्व       क्या आप भी करते हैं खाना खाते समय ये गलतियां तो मां लक्ष्मी हो सकती हैं नाराज       गुरुवार को रखने जा रहे हैं व्रत तो इन बातों का रखें खास ख्याल       करें काले तिल के ये उपाय, घर में आती है सुख-समृद्धि       कब से शुरू हो रहा है रमजान का पवित्र महीना, जानें यहां       ताइवान अधिकारी के साथ सरकार के संबंधों को मिलेगा बढ़ावा       अमेरिका-ईरान के बीच अगले सप्ताह शुरू होगी वार्ता, परमाणु समझौते का मुख्य बिंदु       कोरोना संक्रमण के चलते दूसरे देशों को टीके की आपूर्ति कम कर सकता है भारत : गावी प्रमुख       अमेरिकी सांसद ने 'क्वाड प्लस फ्रांस' नौसेना अभ्यास को सराहा       वर्जीनिया में एलजी पद की दौड़ में शामिल पुनीत अहलूवालिया के पक्ष में उतरे कपिल देव       मध्य प्रदेश सीएम शिवराज ने बढ़ते कोविड मामलों पर जताई चिंता, बोले...       दुनियाभर के 27 अमीर देशों में 25 गुना तेज टीकाकरण       बढ़ते संक्रमण को लेकर छत्तीसगढ़ सरकार अलर्ट, रेलवे स्टेशनों और हवाई अड्डों पर RT- PCR परीक्षण की तैयारी       आम की यह किस्म बारहों महीने देती है फल, राजस्थान के इस किसान ने किया विकसित       झारखंड और यूपी के कई इलाकों में हुई बारिश, जानें अपने राज्य का मौसम       पेट्रोल डीजल की खूब बचत करती हैं ये 4 कारें, इनका माइलेज है सबसे ज्यादा       नई किआ Seltos से लेकर हुंडई Alcazar तक, अप्रैल में लॉन्चिंग को तैयार ये धाकड़ एसयूवीज !       इन SUVs को जमकर खरीद रहे ग्राहक, कीमत है कम और फीचर्स हैं ज्यादा       फ्यूल सेविंग गैजेट्स के बारे में ये बाते नहीं जानते होंगे आप, जानें       ये हैं भारत की सबसे सस्ती फैमिली कारें, 7 लोगों का परिवार आसानी से हो जाएगा इनमें फिट